Balaji Chalisa PDF Download in Hindi: बालाजी चालीसा – मेहंदीपुर बालाजी चालीसा|

बालाजी चालीसा मेहंदीपुर बालाजी चालीसा भगवान श्री बालाजी को खुश करें और उनकी कृपा प्राप्त करें के एक बहुत महत्पूर्ण साधन हैं भगवान श्री बाला अपने भक्तों पर हमेशा कृपा करके रखते हैं और वाह बहुत ही दयालु भगवान हैं|

भगवान बालाजी हनुमान की कृपा से मनुष्य की सभी बुरी शक्तियों से रक्षा होती है और अगर मनुष्य में जितने भी रोग हैं उन सबका नाश भी बालाजी की कृपा से होता है|

Balaji Chalisa PDF Download in Hindi
Source: OneIndia

Balaji Chalisa

|| बालाजी चालीसा ||

|| दोहा ||

श्री गुरू चरण चितलाय के धरें ध्यान हनुमान |
बालाजी चालीसा लिखें दास स्नेही कल्याण ||
विश्व विदित वर दानी संकट हरण हनुमान |
मेंहदीपुर प्रकट भये बालाजी भगवान ||

|| चौपाई ||

जय हनुमान बालाजी देवा , प्रकट भए यहाँ तीनों देवा |
प्रेतराज भैरव बलवाना, कोतवाल कप्तान हनुमाना ||
मेहदीपुर अवतार लिया है, भक्तो का उध्दार किया है |
बालरूप प्रकटे है यहां पर, संकट वाले आते है जहाँ पर ||

डाकनि, शाकनि अरु जिन्दनी, मशान चुडैल भूत भूतनी |
जाके भय से सब भाग जाते, स्याने भोपे यहाँ घबराते ||
चौकी बंधन सब कट जाते, दूत मिले आनंद मनाते |
सच्चा है दरबार तिहारा, शरण पडे सुख पावे भारा ||

रूप तेज बल अतुलित धामा, सन्मुख जिनके सिय रामा |
कनक मुकुट मणि तेज प्रकाशा, सवकी होवत पूर्ण आशा ||
महंत गणेशपुरी गुणीले, भए सुसेवक राम रंगीले |
अद्भुत कला दिखाई कैसी, कलयुग ज्योति जलाई जैसी ||

ऊँची ध्वज पताका नभ में, स्वर्ण कलश है उन्नत जग मे |
धर्म सत्य का दंका बाजे, सियाराम जय शंकर राजे ||
आना फिराया मुगदर घोटा, भूत जिंद पर पडते सोटा |
राम लक्ष्मण सिय ह्रदय कल्याणा, बाल रूप प्रकटे हनुमाना |

जय हनुमंत हठीले देवा, पुरी परिवार करत है सेवा |
चूरमा, मिश्री, मेवा, पुरी परिवार करत है सेवा ||
लड्डू, चूरमा, मिश्री, मेवा, अर्जी दरखास्त लगाऊँ देवा |
दया करे सब विधि बालाजी, लंकट हरण प्रकटे बालाजी ||

जय बाबा की जन-जन उचारे, कोटिक जन आए हेरे द्वारे |
बाल समय रवि भक्षहि लीन्हा, तिमिर मय जग कीन्ही तीन्हा ||
देवन विनती की अति भारी, छाँड दियो रवि कष्ट निहारी |
लाँघि उदधि सिया सुधि लाए, लक्ष हित संजीवन लाए ||

रामानुज प्राण दिवाकर, शंकर सुवन माँ अंजनी चाकर |
केसरी नंदन दुख भव भंजन, रामानंद सदा सुख सुख संदन ||
सिया राम के प्राण प्यारे, जय बाबा की भक्तउचारे |
संकट दुख भंजन भगवाना, हया दरहु हे कृप्या निधाना ||

सुमर बाल रूप कल्याणा, करे मनोरथ पूर्ण कामा |
अष्ट सिध्दि नव निधि दातारी, भक्त जन आवे बहु भारी ||
मेवा अरु मिष्ठान प्रवीना, भेट चढावें धनि अरु दीना |
नृत्य करे नित न्यारे-न्यारे, रिध्दि-सिध्दियाँ जाके द्वारे ||

अर्जी का आदेश मिलते ही, भैरव भूत पकडते तब ही |
कोतवाल कप्तान कृपाणी, प्रेतराज संकट कल्याणी ||
चौकी बंधन कटते भाई, जो जन करते है सेवकाई |
रामदास बाल भगवंता, मेहदीपुर प्रकटे हनुमंता ||

जो जन बालाजी मे आते है, जन्म-जन्म के पाप नशाते |
जल पावन लेकर घर आते, निर्मल हो आनंद मनाते ||
क्रूर कठिन संकट भगजावे, सत्य धर्म पथ राह दिखावे |
जो सत पाठ करे चालीसा, तापर प्रसन्न होय बागीसा ||
कल्याण स्नेही, स्नेह से गावे, सुख समृध्दि रिध्दि सिध्दि पावे |

|| दोहा ||

मंद बुध्दि मम जानके क्षमा करो गुणखान |
संकट मोचन क्षमहु मम दास स्नेही कल्याण ||

Mehandipur Balaji chalisa

|| Doha ||

Shri guru charan chitlaay ke dharen dhyan Hanuman.
Balaji chalisa likhen das snehi kalyan.
Wishw widit war daani sankat haran Hanuman.
Mehandipur prakat bhaye Balaji Hanuman.

|| Chaupai ||

Jay Hanuman balaji dev, prakat bhay yahan tino deva.
Pretraj bhairav balwana, Kotwal kaptan Hanumana.
Mehandipur Awtar liya hai, Bhakton ka uddhar kiya hai.
Balrup prakte hai yahan par, Sankat wale aate hai jahan par.

Dakini Shakini aru jindani, Mashan chudail bhut bhutni.
Jaake bhay se sab bhag jaate, Syane bhope yahan ghabrate.
Chouki bandhan sab kat jaate, Dut mile aanand manate.
Sachcha hai darbar tihara, Sharan pade sukh paawe bhara.

Rup tej bal atulit dhama, sanmukh jinke siya rama.
Kanak mukut mani tej prakasha, sabki howat purn aasha.
Mahant ganeshpuri gunile, Bhay susewak ram rangile.
Adbhut kala dikhai kaisi, kalyug jyoti jalai jaisi.

Unchi dhwaj pataka nabh me, swarn kalash hai unnat jag me.
Dharm satya ka danka baaje, Siyaram jai shankar raaje.
Aana phiraya mugdar ghota, Bhut jind par padte sota.
Ram lakshman siya hriday kalyana, bal rup prakte hanumana.

Jai Hanumant hathile deva, puri pariwar karat hai sewa.
Laddu, Churma, mishri, mewa, Arji darkhast lagau deva.
Daya kare sab widhi balaji, Sankat haran prakte balaji.

Jai baba ki jan-jan uchare, kotik jan aaye here dware.
Bal samay ravi bhakshhi linha, Timir may jag kinhi tinha.
Dewan winti ki ati bhari, chhod diyo ravi kasht nihari.
Laanghi udadhi Siya sudhi laaye, Laksh hit sanjiwan laaye.

Ramanuj pran diwakar, Shankar suwan maa anjani chakar.
Kesri nandan dukh bhaw bhanjan, Ramanand sada sukh sandan.
Siya Ram ke pran pyaare, Jay baba ki bhakt uchare.
Sankat dukh bhanjan bhagwana, Daya karhu he kripa nidhana.

Sumar bal rup kalyana, Kare manorath purn kama.
Asht siddhi naw nidhi datari, Bhakt jan aawe bahu bhari.
Mewa aru mishthan prawina, Bhent chadhawe dhani aru dina.
Nritya kare nit nyaare- nyaare, riddhi siddhiyan jaake dware.

Arji ka aadesh milte hi, Bhairav bhut pakarte tab hi.
Kotwal kaptan kripani, pretraj sankat kalyaani.
Chauki bandhan katate bhai, jo jan karte hain sewkai.
Ramdas bal bhagwanta, Mehandipur prakte hanumanta.

Jo jan Balaji me aate, Janm janm ke pap nashate.
Jal paawan lekar ghar aate, Nirmal ho aanand manate.
Krur kathin sankat bhag jaawe, Satya dharm path raah dikhawe.
Jo sat paath kare chalisa, Taapar prasann hoy baagisa.
Kalyan snehi sneh se gaawe, sukh samriddhi riddhi siddhi paawe.

|| Doha ||

Mand buddhi mam jaanke kshma karo gunkhan.
Sankat mochan kshmahi mam das snehi kalyan,

बालाजी चालीसा/Balaji Chalisa का पाठ कैसे करें?

  • बालाजी पालिका का पाठ किसी भी दिन किया जा सकता है 
  • परंतु मंगलवार और शनिवार को बालाजी चालीसा/Balaji Chalisa का पाठ करना अनुचित माना जाता है 
  • पाठ करने से पहले आप स्नान कर लें और साफ और सरल कपड़े पहनकर बैठे 
  • बालाजी की प्रतिमा जहां पर स्थापित है वहां पर बैठे और ध्यान लगाए 
  • फिर आप चालीसा का पाठ करनाशुरू कर सकते हैं पर एक चीज ध्यान रखें की चालीसा का पाठ पूरी श्रद्धा से करें अगर आप काली शक्तियों से या बुरी शक्तियों से परेशान है तो मेहंदीपुर बालाजी के धाम जाकर इसका हल निकल सकता है 
  • बालाजी चालीसा का पाठ 157 21 या 108 बार कर सकते हैं 

Balaji Chalisa PDF Download in Hindi

File size

बालाजी चालीसा/Balaji Chalisa Video

अन्य पीडीएफ़ डाउनलोड करें

Introducing Saurabh Kumar, a distinguished university MBA postgraduate with more than five years of blogging experience. As a seasoned writer, SEO specialist, and digital storyteller, Saurabh skillfully combines his business knowledge with gripping storytelling. His blog entries provide strategic advice for improving online presence in addition to showcasing his in-depth knowledge on a wide range of subjects.

Leave a comment